Philosophy · poetry

उम्मीद

कभी छावॅ है, तो कभी धूप है,

अभी रात है, पर सवेरे का इतंजार है,

सूरज की पहली किरन से आश है।

सासॅ है, तो जान है।

जिदंगी है,तो उम्मीद है।

चल, अचल का उत्साह है,

बेताब धारा की उल्लास है,

पर सागर जैसा ठहराव है।

कभी छावॅ है, तो कभी धूप है,

रात है, तो सवेरा है।

सासॅ है, तो जान है।

जिदंगी है, तो उम्मीद है।

My first try with hindi poetry, if you enjoyed it please like and subscribe 😊

Advertisements

18 thoughts on “उम्मीद

  1. “न रहने दो कलम को खामोश”
    …………..
    बहुत सारी अच्छी किताबो को पढ़ो
    output तभी आता है जब बहुत सारा अच्छा इनपुट मिलता है लेखक को.

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s